उत्तराखण्ड से अमेरिका तक मशहूर हुए थारू जनजाति द्वारा बनाये गये मूंज के उत्पाद

  दून हाट में हथकरघा और हस्तशिल्प से बने उत्पाद लोगों को कर रहे आकर्षित देहरादून 13 दिसंबर, 2019। हथकरघा

Read more

मुख्यमंत्री ने दून हाट का किया लोकार्पण

  सीएम ने पांच हस्तशिल्पियों को ‘‘उत्तराखण्ड राज्य शिल्प रत्न’’ पुरस्कार दिया देहरादून 12 दिसंबर, 2019। हथकरघा और हस्तशिल्प को

Read more

प्रेस विज्ञप्ति आई.टी पार्क देहरादून में बने नवनिर्मित दून हाट का 12 दिसंबर को लोकार्पण करेंगे मुख्यमंत्री

दून हाट स्थानीय उत्पादों एवं हथकरघा और हस्तशिल्प के विपणन प्रोत्साहन हेतु विकसित किया जा रहा है। देहरादून 11 दिसंबर,

Read more

लग्रों इंडिया ने हरिद्वार में अपने चार महीने तक चलने वाले रोडशो को हरी झंडी दिखाई

लग्रों इंडिया ने देश के 50 शहरों में की रिटेल रोडशो की शुरुआतय उत्पादों की व्यापक श्रृंखला का किया जाएगा प्रदर्शन लग्रों के समाधान की पूरी श्रृंखला को दिखाने वाली वैन उत्तराखंड के हरिद्वार और देहरादून में यात्रा करेगी।   हरिद्वार, 2 दिसंबर, 2019 – इलेक्ट्रिकल और डिजिटल बिल्डिंग इंफ्रास्ट्रक्चर में वैश्विक अग्रणी, लग्रों इंडिया ने आज हरिद्वार में अपने चार महीने तक चलने वाले रोडशो को हरी झंडी दिखाई। इस रोडशो में लिन्कस स्विचेज और ड्यूओ बॉक्स की नई रेंज प्रदर्शित की जाएगी जिससे हितधारकों के बीच प्रोडक्ट पोर्टफोलियो को लेकर जागरुकता फैलाने में ब्रांड को मदद मिल सकेगी। इस रोडशो के जरिए, लग्रों ने खुदरा वर्ग में विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तार करने की अपनी योजना को भी मजबूत किया है। इस अभियान के माध्यम से कंपनी टियर 2 क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति बढ़ाने का इरादा रखती है। लग्रों के समाधान की पूरी श्रृंखला को दिखाने वाली वैन उत्तराखंड के हरिद्वार और देहरादून में यात्रा करेगी। लग्रों के रिटेल रोडशो में आर्टिओर, माइरियस, माईलिंक और ब्रिट्जी एस जैसे विभिन्न प्रकार के स्विचेस व सॉकेट्स और त्ग्3 जैसे सुरक्षा उपकरणों को प्रदर्शित किया जाएगा। चार महीनों की अवधि में लग्रों के स्विचेज और सुरक्षा उपकरणों वाले प्रोडक्ट पोर्टफोलियो के साथ कुल 5 वैन करीब 49 शहरों में 1500 से ज्यादा रिटेल काऊंटर्स को कवर करेंगे। इससे रिटेलर्स और इलेक्ट्रिशियन्स को सक्रिय रुप से जोड़ने और उन्हें टच स्विचेज, अभिनव इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों का अनुभव कराने में मदद मिलेगी, जोकि लग्रों के सिद्धांत ‘ईज ऑफ इन्स्टॉलेशन एंड ईज ऑफ यूज’ पर खरे उतरते हैं। देश के कई शहरों में इन वैन की मौजूदगी से ग्राहकों, रिटेल नेटवर्क और इलेक्ट्रिशियन के बीच गहरा जुड़ाव संभव हो सकेगा। ये वैन उत्तराखंड, ओड़िशा, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, यूपी, कर्नाटक, गुजरात, महाराष्ट्र और असम की यात्रा करेंगी। लग्रों इंडिया के मार्केटिंग (ग्रुप) डायरेक्टर श्री समीर सक्सेना ने कहा, “रिटेल रोड शो में हमारा पूरा ध्यान लग्रों के विभिन्न प्रकार के उत्पादों के बारे में जागरुकता फैलाना और लिन्कस स्विचेज और ड्यूओ बॉक्स डिस्ट्रीब्यूशन बोर्ड्स की नई रेंज की पेशकश करना है। इसके साथ ही हमारे उत्पादों को सभी जगहों पर उपलब्ध कर हमारा इरादा भारत में टीयर-2 क्षेत्रों में हमारी उपस्थिति को मजबूत करना है। लग्रों में हमारे पास बेहद तकनीकी उत्पाद पेशकशों की व्यापक श्रृंखलाहै और इस पहल के माध्यम से हम अपने ग्राहकों एवं रिटेलर्स तक पहुंचना चाहते हैं। इससे हमें उनके करीब जाकर बात करने का मौका मिलेगा।” उन्होंने आगे कहा, “प्रीमियम सेगमेंट में बाजार अग्रणी होने और रिटेल क्षेत्र में दो से अधिक दशकों की मौजूदगी के साथ हमारी ये जिम्मेदारी है कि हम ये सुनिश्चित करें कि ग्राहकों को उनकी जरुरतों के मुताबिक सर्वश्रेष्ठ उत्पाद मिलें। हम उम्मीद करते हैं कि इस पहल से हितधारकों के साथ हमारा जुड़ाव बढ़ेगा और नए दौर के ऊर्जा सक्षम समाधानों की जरूरत एवं उपलब्धता की सीख तैयार हो सकेगी।” लग्रों दुनिया की अग्रणी इलेक्ट्रिकल और डिजिटल बिल्डिंग सॉल्यूशन प्रदाता है। भारतीय बाजार में प्रीमियम वायरिंग उपकरणों और सुरक्षा उपकरणों में लग्रों लीडरशिप का आनंद उठाता है। इनके उत्पादों को आवासीय, व्यावसायिक, औद्योगिक और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के क्षेत्रों में व्यापक तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।

Read more

चंचल मन को स्थिर करने के लिये ध्यान एक तकनीक है – दाजी

केवल ध्यान के माध्यम से ही हम अपने हर प्रयास में उत्कृष्ट हो सकते हैं गुरुकुंज आश्रम में हार्टफुलनेस संस्थान और राष्ट्र संत वंदनीय तुकडोजी महाराज संस्था के बीच एक कार्यक्रम   देहरादून-28-11-2019- हार्टफुलनेस संस्थान और तुकडोजी महाराज की संस्था के बीच चल रहे सम्बन्धों के परिणामस्वरूप श्री कमलेश पटेल (दाजी) को गुरुकुंज में राष्ट्र संत वंदनीय तुकडोजी महाराज के श्रद्धांजलि वार्षिक समारोह में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया गया था, जहाँ 150,000 से अधिक अनुयायी कार्यक्रमों में भाग लेने के लिये एकत्रित हुए थे। वहाँ एक बड़ा समूह उनके स्वागत के लिये एकत्रित हुआ था। लगभग एक हजार से अधिक आगंतुकों ने हार्टफुलनेस के परिचयात्मक ध्यान सत्रों में भाग लिया, और अधिकांश ने अपने पहले सत्र में ही स्वयं को ध्यान में डूबा हुआ पाया। इस आयोजन के लिये विभिन्न स्थानों से एकत्र हुए हमारे वॉलंटियरों द्वारा प्रदान की गई निरूस्वार्थ सेवा से श्री तुकडोजी महाराज के अनुयायी विस्मित थे। इस गठबंधन पर टिप्पणी करते हुए दाजी ने कहा,  ‘‘चंचल मन को स्थिर करने के लिये ध्यान एक तकनीक है। मन पहले शान्त हो जाता है, फिर उसे दिशा देने की जरूरत होती है। मन के स्थिर हो जाने के बाद हम क्या करते हैं? एक विद्यार्थी पढ़ाई पर ध्यान देगा, एक व्यापारी पैसा कमाने पर ध्यान देगा, लेकिन इसका सबसे योग्य उपयोग ईश्वर की प्राप्ति, ब्रह्म विद्या को प्राप्त करने के लिये होगा। यहाँ तक कि भगवान श्रीकृष्ण भी कहते हैं कि ध्यान करना एक श्रेष्ठ काम है। केवल ध्यान के माध्यम से ही हम अपने हर प्रयास में उत्कृष्ट हो सकते हैं। ‘‘अकेलापन बहुत सारी समस्याओं का कारण होता है। लोग भले ही शादीशुदा हों लेकिन वे फिर भी अकेलापन महसूस करते हैं। यह अकेलेपन की महामारी आज समाज की सबसे बड़ी समस्या है। जब हम ईश्वर की ओर जा रहे होते हैं तब हमें इस समस्या का सामना नहीं करना पड़ता क्योंकि हम हर किसी में ईश्वर को देखते हैं। हम ऐसा महसूस करते हैं इसीलिये इस बारे में बोलने की कोई जरूरत नहीं है। हर कोई जानता है कि ईश्वर सर्वव्यापी है, लेकिन जब यह विचार वास्तविकता बन जाता है तब सच में कुछ हो सकता है।’’ ‘‘हर कोई खुशी चाहता है। दुख कौन चाहता है? कोई नहीं। हम कब खुश हो सकते हैं? जब मन मननशील हो जाता है। हम कब विचार कर सकते हैं? जब संकल्प लेने के बाद मन एक बात पर टिका हो। यह केंद्रित हो जाता है। और मन कब केंद्रित हो सकता है? जब इसे नियमित किया जाता है। और यह कब नियमित होगा? जब हम ध्यान करेंगे। अब ऊपर दिये गये कथनों को जोड़ें। क्या ध्यान के बिना खुशी सम्भव है? हार्टफुलनेस में, प्राणाहुति के कारण, ध्यान बहुत सरल हो जाता है। दाजी दम तुकडोजी महाराज की पुण्यतिथि में भाग सपलं कार्यक्रम भगवद्गीता से भजन-कीर्तन और श्लोकों के साथ शुरू हुआ, सभी अनुयायियों के साथ ध्यान हॉल में इकट्ठा हुए। जब दाजी ने कहा कि उन सभी ने उन्हें बिना किसी प्रश्न के स्वीकार कर लिया है और उन्हें अपना बना लिया तो श्री तुकडोजी महाराज के अनुयायी भावविह्वल हो उठे। यह एक ऐसा पल था जिसमें बहुत सी आँखों से आँसू बह रहे थे। ज्यादातर लोगों को दाजी की सादगी ने छू लिया था और जिस तरह उन्होंने अपने विचारों को बड़ी सरलता से व्यापक रूप में प्रस्तुत किया। कई लोग जिन्हें दाजी, हार्टफुलनेस और कान्हा के बारे में पता लगा, वे आने वाले समय में कान्हा आना चाहते हैं।      

Read more

पीआरसीआई देहरादून चैप्टर ने राईट टू वॉक कैंमपेन का किया शुभारंभ

देहरादून 23 नवम्बर, 2019। पब्लिक रिलेशन कांउसिल ऑफ इण्डिया (पीआरसीआई) देहरादून चैप्टर ने ग्लोबल पब्लिक रिलेशन के तत्वाधान में शनिवार

Read more

महामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य 18 को करेंगी, गोर्खा दशैं-दीपावली महोत्सव-2019 का शुभारंभ

  गोर्खा दशैं-दीपावली महोत्सव-2019 मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रहेगी धूम अन्तर्राष्ट्रीय लोकगायक मिनुज राना व लोकगायिका सुनीता नेपाली देंगे

Read more