शालिनी फैलोशिप की 160 से भी अधिक छात्राओं द्वारा भिक्षावृत्ति के खिलाफ अलख जगाई गई।

आज दिनांक 02 फरवरी, 2020 को उदयन शालिनी फैलोशिप की 160 से भी अधिक छात्राओं द्वारा भिक्षावृत्ति के खिलाफ अलख जगाई गई। घंटाघर के पास स्थित रैन बसेरा में आयोजित भिक्षावृत्ति रोधी जागरूकता कार्यक्रम में उन्होंने लोगों से समाज में फैली इस बुराई को हतोत्साहित करते हुए जड़ से समाप्त करने का आह्वान किया। इस अवसर पर छात्राओं ने गांधी पार्क में नुक्कड़ नाटक द्वारा भिक्षावृत्ति के उत्पन्न होने के कारण और उसके द्वारा प्रताड़ित होने वाले बच्चों की जिंदगी का सजीव चित्रण प्रस्तुत किया। इस अवसर पर नगर निगम देहरादून के माननीय मेयर श्री सुनील उनियाल ‘गामा’ द्वारा छात्राओं के इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि पढ़ाई लिखाई की इस उम्र में सामाजिक सरोकारों में सक्रियता इन छात्राओं के उच्च मुल्यों और जीवन के प्रति सकारात्मक नजरिए को दर्शाती है। माननीय मेयर ने उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए छात्राओं से जिंदगी में मेहनत और लगन से कार्य करते हुए आगे बढ़कर सफलता हासिल करने कि अपेक्षा की। मेयर श्री सुनील उनियाल गामा ने छात्राओं को हरसंभव मदद का भरोसा भी दिया। इससे पूर्व रैन बसेरा में हुए जागरूकता कार्यक्रम में सी.ओ.सिटी श्री शेखर सुयाल ने भिक्षावृत्ति से पैदा होने वाली समस्याओं के बारे में बोलते हुए इस संबंध में कानूनी जानकारी भी दी। साथ ही साथ श्री सुयाल ने फैलोशिप की छात्राओं को साइबर अपराध और मोबाइल फोन के दुरुपयोग से संबंधित विस्तृत जानकारी एवं कानूनी प्राविधानों से भी अवगत कराया।

दयन शालिनी फैलोशिप के संयोजक श्री विमल डबराल ने छात्राओं और समाज के लोगों को भिक्षावृत्ति रुपी बिमारी के प्रति सचेत करते हुए कहा कि आज मानव तस्करी और बच्चों के अपहरण के अधिकतर मामले भिक्षावृत्ति से जुड़े हैं तथा भीख के रूप में दिया गया हमारा एक रुपया किसी न किसी बच्चे का भविष्य असुरक्षित एवं खराब कर रहा है।
उक्त कार्यक्रम में आसरा ट्रस्ट के सदस्यों ने भी सक्रिय प्रतिभाग करते हुए सहयोग दिया।
इस अवसर पर उदयन शालिनी फैलोशिप की कोआर्डिनेटर वरुणा एवं फरहा के साथ ही रिया, नैना, कंचन एवं बड़ी संख्या में छात्राएं एवं उनके अभिभावक उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि उदयन केयर संस्था द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर लेकिन पढ़ाई लिखाई में कुशाग्र सरकारी स्कूलों में 11वीं कक्षा में पढ़ रही छात्राओं के आर्थिक सहयोग, व्यक्तित्व विकास एवं कैरियर निर्माण हेतु उदयन शालिनी फेलोशिप कार्यक्रम का संचालन किया जाता है। इस कार्यक्रम में कक्षा ग्यारह में अध्ययनरत छात्रा को अगले पांच साल तक हर माह छात्रवृत्ति के साथ ही विभिन्न गतिविधियों के जरिए जागरूक एवं शिक्षित किया जाता है। वर्तमान में इस कार्यक्रम से शिक्षित छात्राएँ आई.आई.टी. जैसे संस्थानों में अध्ययनरत होने के साथ ही अध्यापन, नर्सिंग, इवैंट मैनेजमेंट, चार्टर्ड अकाउंटेंट जैसे क्षेत्रों में भी कार्यरत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *