इंश्योरेंस पॉलिसीज को डिजिटल रूप से पेश करने के लिए एसबीआई जनरल इंश्योरेंस ने मोबिक्विक के साथ भागीदारी की

देहरादून, 27 सितंबर, 2019- भारत की अग्रणी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों में शुमार एसबीआई जनरल इंश्योरेंस ने शीर्ष फिनटेक प्लेयर मोबिक्विक के साथ गठबंधन किया है, जो इंश्योरेंस को आसान, सुलभ और सस्ता बनाएगा। दोनों दिग्गजों का यह एलाएंस इस डिजिटल-प्रेमी पीढ़ी के बड़े काम का है, जो आसान व त्वरित लेन-देन तथा सहज उपलब्ध समाधानों की तलाश में रहती है।

मोबिक्विक एक ओर जहां पारदर्शी, सुविधाजनक और ग्राहक-केंद्रित पॉलिसी एवं दावा प्रक्रियाओं को विकसित करने हेतु अपने व्यापक रूप से लोकप्रिय डिजिटल प्लेटफॉर्म का लाभ उठाते हुए तकनीक-प्रेमी और तेज-तर्रार पीढ़ी के बीच बीमा-उत्पादों को जाने-समझे जाने का तरीका बदल रही है, वहीं ऐसे पसंदीदा डिजिटल प्लेटफार्मों पर युवा पीढ़ी की जरूरतों के अनुकूल कस्टमाइज किए गए उत्पाद प्रस्तुत करने हेतु एसबीआई जनरल इंश्योरेंस पूरी तरह से सुसज्जित है। इस साझेदारी के माध्यम से ग्राहक एसबीआई जनरल के विस्तृत गुलदस्ते में से आकर्षकध्स्पर्द्धात्मक प्रीमियम पर अपनी जरूरतों के हिसाब से बीमा-उत्पाद चुन सकेंगे। उत्पाद चुनते ही मोबिक्विक ऐप के माध्यम से ग्राहकों का तुरंत बीमा हो जाएगा, जो मात्र 2-चरणों की एक आसान प्रक्रिया होगी और इसमें 10 सेकंड से भी कम समय लगेगा।

इस साझेदारी पर बात करते हुए एसबीआई जनरल इंश्योरेंस के एमडी और सीईओ श्री पूषण महापात्रा ने कहा, “आवश्यकता-आधारित बीमा समाधान प्रदान करना हमारे लिए सहज-स्वाभाविक कर्म है। मोबिक्विक के इतने विविध यूजरबेस के दम पर अपने उपयोगकर्ताओं को अनेक बीमा समाधान उपलब्ध कराते हुए इस प्लेटफॉर्म के इथॉस का पूरक बनना एसबीआई जनरल इंश्योरेंस का उद्देश्य है। इस साझेदारी के माध्यम से हम अपने अभिनव उत्पादों को ग्राहकों के लिए सहज-सुलभ बनाने का इरादा रखते हैं जो जीवन के विभिन्न चरणों में उनकी सुरक्षा करेंगे।”

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए श्री महापात्रा बोले- “जहां तक बीमा की पैठ का सवाल है, मोबिक्विक जैसे डिजिटल प्लेटफॉर्म बदलाव के एजेंट की भूमिका निभाते हैं। यह साझेदारी हमें अपने ग्राहक आधार का विस्तार करने और आज के युवाओं तक पहुंच बनाने में मदद करेगी। यह कुल मिलाकर बीमा पैठ को और गहरा बनाने में भी सहायक होगी।“

मोबिक्विक की सह-संस्थापक उपासना टाकु ने इस साझेदारी पर टिप्पणी करते हुए कहा, “भारतीय उपभोक्ता की नब्ज को समझना उन उत्पादों को विकसित करने की कुंजी है, जिनको भारतीय आत्मसात करते हैं। मोबिक्विक 750 मिलियन लोगों को लक्ष्य बनाकर ऐसे कई लीक से हटकर निर्मित उत्पादों के मामले में अग्रणी रहा है। ये वो लोग हैं जिनके पास अपर्याप्त बैंकिग सेवाएं हैं और जिनकी सीमित बचत और जमा सेवाओं वाले बुनियादी धन योजना खातों के अलावा व्यापक वित्तीय उत्पादों की तक पहुंच ही नहीं है।”

उन्होंने आगे कहा, “भारत में पूरी आबादी का 1 प्रतिशत से भी कम हिस्सा गैर-जीवन बीमा के अंतर्गत कवर हुआ है। आईआरडीएआई की 2017 में जारी वार्षिक रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार इस 1 प्रतिशत का 65ः हिस्सा व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा के तहत कवर किया गया था। आपदा की स्थिति में पर्याप्त कवर की कमी लोगों को उच्च वित्तीय अस्थिरता का शिकार बनाती है। असंगठित क्षेत्र के मामले में यह स्थिति और ज्यादा गंभीर है। एसबीआई जनरल इंश्योरेंस के साथ हमारा गठजोड़ बीमा से वंचित खरीदारों को बीमा सेवाओं से परिचित कराने तथा भारत के अधिक से अधिक लोगों को डिजिटल सेवाओं का अनुभव दिलाने और उपयोगकर्ताओं को बड़े पैमाने पर साथ बनाए रखने हेतु प्रोत्साहित किए जाने को लेकर हमारी प्रतिबद्धता पर मुहर लगाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *