पाकिस्तान सरकार पर भड़के बॉलीवुड एक्टर, ट्वीट कर कहा- ‘पाखंडी रवैया’

इमरान खान (Imran Khan) के इस ट्वीट के बाद बॉलीवुड एक्टर कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने सोशल मीडिया पर उनका बखूबी जवाब दिया है.

नई दिल्ली: 

जम्मू और कश्मीर (Jammu and Kashmir) के मुद्दे ने देश के साथ-साथ विदेशों में भी हल-चल मचा दी है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में भारत की तरफ से यह साफ कर दिया गया है कि कश्मीर (Kashmir) का मसला भारत का आंतरिक मामला है. इसके बावजूद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने ट्वीट कर जम्मू और कश्मीर की तरफ भारत के रवैये को ‘फांसीवादी’ बताया है. हालांकि इमरान खान के इस ट्वीट का जवाब बॉलीवुड एक्टर कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने बखूबी दिया है. कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने ट्वीट कर इमरान खान के अंदाज को ‘पाखंडी’ बताते हुए पीओके (Pakistan Occupied Kashmir) के जनता को आजादी देने की सलाह दी है.

बॉलीवुड एक्टर कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) पर निशाना साधते हुए लिखा, “सर, अगर कश्मीरी मुक्ति को जीतना चाहिए और कश्मीर को स्वतंत्रता मिलनी चाहिए. तो कम से कम आपको पीओके के लोगों को तुरंत आजादी देने चाहिए. आप दूसरों को ज्ञान दे रहे हैं, लेकिन खुद ऐसा बिल्कुल भी नहीं कर रहे. यह एक पाखंडी रवैया है.

बता दें कि भारत सरकार पर निशाना साधते हुए और कश्मीर के मुद्दे को उठाते हुए इमरान खान  (Imran Khan) ने ट्वीट किया था. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, “फांसीवादी, हिंदू सुप्रीमो मोदी सरकार को पता होना चाहिए कि सेनाओं और आतंकवादियों को बेहतर ताकतों द्वारा हराया जा सकता है. इतिहास गवाह है कि जब कोई राष्ट्र स्वतंत्रता संग्राम में एकजुट होता है और उसे मृत्यू का भय नहीं होता तो कोई भी ताकत उसे अपने लक्ष्य को हासिल करने से नहीं रोक सकती है. यही कारण है कि हिंदुत्व वाली मोदी सरकार का यह रवैया कश्मीरी मुक्ति संघर्ष को दबाने में फेल हो जाएगा.”बता दें कि भारत सरकार पर निशाना साधते हुए और कश्मीर के मुद्दे को उठाते हुए इमरान खान  (Imran Khan) ने ट्वीट किया था. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, “फांसीवादी, हिंदू सुप्रीमो मोदी सरकार को पता होना चाहिए कि सेनाओं और आतंकवादियों को बेहतर ताकतों द्वारा हराया जा सकता है. इतिहास गवाह है कि जब कोई राष्ट्र स्वतंत्रता संग्राम में एकजुट होता है और उसे मृत्यू का भय नहीं होता तो कोई भी ताकत उसे अपने लक्ष्य को हासिल करने से नहीं रोक सकती है. यही कारण है कि हिंदुत्व वाली मोदी सरकार का यह रवैया कश्मीरी मुक्ति संघर्ष को दबाने में फेल हो जाएगा.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *